बीजापुर के नक्सल प्रभावित सुदुर अंचल उसूर से पीएससी की परीक्षा में साल-दर-साल एक ही परिवार के तीन सदस्यों ने लहराया परचम

बीजापुर। जिले के धुर नक्सल प्रभावित उसूर जैसे दूरस्थ क्षेत्र से निकलकर एक शिक्षक के कर्तव्य का निर्वहन करते दुर्गम नागेश्वर के तीनो सपूतों ने सीजी पीएससी में साल-दर-साल अपना परचम लहराया है। सबसे पहले प्रीति दुर्गम और हिमांशु दुर्गम ने पीएससी की परीक्षा में अपना लोहा मनवाया और आज दोनो दंतेवाड़ा जिले में प्रीति- डिप्टी कलेक्टर तो हिमांशु आबकारी निरीक्षक के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

क्रमश: अर्चना, प्रीति व हिमांशु दुर्गम

पुनः इस बार CG PSC-2018 के परिणामों मे श्री नागेश्वर दुर्गम की द्वितीय पुत्री कुमारी अर्चना दुर्गम ने अजा. केटेगरी मे 14 वाँ रेंक प्राप्त कर एक बार फिर से समाज व क्षेत्र का नाम रौशन किया है। जिससे समाज सहित क्षेत्र के लोगों द्वारा सहर्ष शुभकामनाओं का सिलसिला जारी है। जानकारी के अनुसार उनकी रैंकिंग और केटेगरी के आधार पर उनका महिला एवं बाल विकास अधिकारी अथवा अधीनस्थ लेखा सेवा अधिकारी के पद पर चयनित होना तय माना जा रहा है।

कु. अर्चना दुर्गम

उसूर जैसे छोटे से गांव से एक ही परिवार के तीन सदस्यों द्वारा राज्य प्रशासनिक सेवा में चयन किसी दिवास्वप्न से कम नहीं है। श्री नागेश्वर दुर्गम धर्मपत्नी श्रीमती मोना दुर्गम की पाँचों सन्तानों में कु. प्रीति दुर्गम डिप्टी कलेक्टर के पद पर पदस्थ हैं। इनका एकलौता पुत्र हिमांशु दुर्गम आबकारी निरीक्षक के पद पर पदस्थ हैं। परिवार के अथक प्रयास से विपरीत परिस्थितियों के बावजूद इनकी मेहनत रंग लाई है। वर्तमान में इनका पूरा परिवार शासकीय सेवाओं में लगा हुआ है।

ज्ञात हो कि श्री नागेश्वर दुर्गम अत्यंत जुझारू एवं संघर्षशील व्यक्ति हैं। वे विद्यार्थी जीवन से ही समाज के उत्थान हेतु इस अतिसंवेदनशील क्षेत्र उसूर में आज से तीन दशक पूर्व स्वयं के खर्चे पर बस्तर संभाग के विभिन्न ग्रामों से समाज के प्रमुखों व प्रबुद्धजनों को आमंत्रित कर विशाल सम्मेलन का आयोजन कर समाज के अनेक कुरीतियों जैसे पाँच दिनों के विवाह को तीन दिन का, क्रियाकर्म जैसे अवसरों पर सहभोज पर पाबंदी, विवाह के दौरान वस्त्र आभूषण वितरण करने जैसे अनेक प्रथाओं को बन्द कराया था। इस वजह से इन्हें क्षेत्र के हर वर्ग के लोग पहचानते हैं। वर्तमान मे वे जिला मुख्यालय बीजापुर मे प्रधान अध्यापक के पद पर कार्यरत हैं। अपनी संतानों की सफलता को लेकर पूरे परिवार सहित जिलावासियों में भी हर्ष का माहौल है।

Dinesh KG (EDITOR)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *