जवानों का हौसला बढ़ाने माड़ में पहुंचे कमिश्नर और आईजी, आकाबेड़ा कैम्प में जवानों और बच्चों से की बात, किसानों को मिलेगा जमीन का मालिकाना हक

जगदलपुर। बस्तर संभाग के कमिश्नर श्री अमृत कुमार खलखो और पुलिस महानिरीक्षक श्री पी. सुन्दराज आज नारायणपुर जिले के अबूझमाड़ के पुलिस कैंप आकाबेड़ा पहुंचे। उन्होंने कैम्प में रामकृष्ण मिशन आश्रम के बच्चों से उनकी पढ़ाई के बारे में बात की। उन्होंने बच्चों से पूछा कि बड़ा होकर वे क्या बनना चाहते हैं। अधिकांश बच्चों ने बताया कि वे बड़े होकर पुलिस और शिक्षक बनना चाहते हैं। अधिकारियों ने कहा कि पुलिस और शिक्षक बनने के लिए पढ़ाई करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि वे पूरी लगन और मेहनत से पढ़ाई करें और जिले के साथ ही प्रदेश का नाम रोशन करें। पुलिस महानिरीक्षक ने बच्चों के सामान्य ज्ञान को भी परखा और भारत के राष्ट्रपति और देश की पहली महिला प्रधानमंत्री का नाम पूछा। बच्चों ने इसका सही जवाब दिया। इस पर उन्होंने बच्चों को शाबासी दी और उन्हें चाकलेट वितरित किए।

बच्चों से बात करने के बाद पुलिस महानिरीक्षक ने जवानों से भी बात की और उनकी समस्याएं जानी। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि कैंप लगने के बाद क्षेत्र में शांति है, लेकिन जवानों को विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जवान तनाव रहित होकर कार्य करें और गश्त के दौरान सुरक्षा के निर्धारित मानकों का पालन करें। कमिश्नर और आईजी ने कैंप के बाहर ग्राम वासियों से भी चर्चा कर उनकी समस्याएं जानी। ग्रामीणों ने बताया कि वे वर्षों से खेती कर रहे हैं। धान के साथ अब वे सब्जी भी उगा रहे हैं, लेकिन जिस जमीन पर वर्षों से खेती कर रहे हैं उसका मालिकाना हक उनके पास नहीं है। इस पर कमिश्नर ने कहा कि राज्य सरकार इस दिशा में काम शुरू कर दिया है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देश पर अबूझमाड़ के गांव का सर्वे प्रारंभ कर दिया गया है। जल्द ही उनकी जमीन का मालिकाना हक दिया जाएगा। ग्रामीणों ने बताया कि नारायणपुर तक सड़क नहीं होने के कारण उनको असुविधा हो रही है। इसके अलावा मोबाइल कनेक्टिविटी नहीं होने के कारण भी बाहर संपर्क नहीं कर पा रहे हैं। इस पर कमिश्नर श्री खलखो ने बताया कि मोबाइल टावर लगाने का काम चल रहा है। इसके साथ ही सड़कों का भी निर्माण किया जाएगा। कमिश्नर श्री खलखों ने गांव में बिजली, पेयजल और राशन की उपलब्धता की जानकारी ली। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले एक साल से सभी घरों में चैबीसों घंटे बिजली मिल रही है। पेयजल के लिए हैण्डपम्प है और मिशन के दुकान से उन्हें राशन मिल रहा है।

Dinesh KG (EDITOR)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *